Saturday, May 2, 2009

OOPS moments !!!!!!!!

Oh, good, here I am, writing again, smiling at myself as I am reflecting back.....
sometimes, we do a right thing which actually turns out to show that we are wrong and we have an "OOPS" moment for ourselves.....but, it's ok, at least we know, we were trying to do something right and atleast we know, where we were wrong/where we can go wrong. We open up and we lose....we hide the things and still we why can't we just lose with open heart and smile back for the pleasure of just having done the right thing ??!!!! Offer an apology, if we owe one....and don't give up on ourselves, on our faith !!!! For something good really lives within me, within us..... and I believe in my goodness and simplicity....

SMILE, we discovered ourselves, making mistakes help, right ???!!!!

It doesn't matter what people say, it doesn't matter how long it takes, believe in urself and u'll fly.....(ok, these lines are from the movie- "Raise ur voice" but they are so right....)

Thursday, April 30, 2009

Slaves of our own ego.......

You know, how we glorify ourselves, all the time? Really, we are the slaves of our own ego..We never see beyond us....Stoneblinds, in real terms !! When we introspect and look back, we start thinking " Oh, I screwed that situation big time", but seriously, there are thousands of people who have screwed majestically( couldn't find a better word !) and still managed to get back on track, funny thing is, we even glorify our act of screwing and how " I " did it or " how it happened to ME!!! "

The reality, what I believe, is -" The more we get personal, the more we get general". There are thousands and thousands of people who experience the same situations as we do, just that we don't know that this happens to everyone, and start either blaming or gloryfying ourselves.

We get an " A" and start praising ourselves," Oh, I am good......", buddy, look around, people get straight A's in each subject for consecutive years !!!!!! We boast about our poster presentation which went really well, but forget one minute detail, there was someone better who grabbed the prize !!! Oh, it works other way around also...there are moments when we feel ashamed of ourselves....without knowing that other people have same conflicts..momentarily big and important, after giving a thought-futile !!!! Here are few examples...

We are on a dinner table and we don't know how to eat with knife and fork !!!! We go " I am the dumbest person of all", if we think again, lots of people have same difficulty !!!! Just matter of time, we'll learn it, buddy, just learn it, and there's always a first time !!!! They serve us tea in cup and saucer, and we are engrossed in deep thinking, " would it look better if I drink it in saucer?" oh hell, for what, do u think they provided the saucer?" We are giving an oral examination and forget the answer just when the question is asked.....the same answer we have on tip of our tongue otherwise !!!!! or " oh, I can't dance that well..." well, may be we can't and may be we can't in front of people, but atleast we can start enjoying, instead of having pressing thoughts of " can't dance in otherwise enjoyable party !!!! " We just have to get over ourselves at times........................

We give far more importance to the situations and to reality, everyone goes through the same phase sometime or other.....It all depends on how easy and hard we are on ourselves, after analysing the depth of the situation, if at all there's any !!!! If we stop putting " I" before every situation, I think, it's easier to live and understand and learn...........

Different perceptions !!!!

People think " I am smart ", we think " We are smarter ", in reality, everyone fooling oneself !!!!

People think, " Oh, I play it cool", we think, " Leave it, I understand ur tricks", the question in reality, " Why are we playing games in first place ??" Both ends at loss, practically.

We think " We are betrayed", People say " I have a justification, u just misunderstood it all", in reality, both ends lack trust and commitment ( not generalizing for all situations !!!)

We " How could u", People " Why can't we ?" in reality, either both ends correct or both ends wrong, Think about white flag........

We think " This exam is too hard ", people ( examiners !) " This is the easiest exam ever conducted ", in reality, we didn't study hard, people expected too high !!!

We " I am too low to smile ", people " Oh, that fellow just pretends, after all, he lacks nothing, what shall he crave about? Attention seeker, nothing else." well, in reality, u don't get each other....don't just open ur heart to everyone.....

Isn'i it funny to see different perceptions at the same time? Same situation, different views.....not every time, what we communicate gets conveyed with exact meaning......communication gap is a bottomless pit.....

I am not trying to find any solution here or ask " Why does it happen", it's just that it's too funny to observe different views at the same time !!!! Life is easy and hard, at the same time.....strange, funny.....and as real as it gets !!!! Have fun, take it easy, keep ur cool and smile.....That's it !!!!

Monday, April 27, 2009

When close friends hide things from us.....

Did any of ur the closest friend hide something from u, anytime? maintained a professional secrecy? How does it feel that time? Emotions all over the map??? All " why, how, what, if's and but's interplaying in the mind.....People have reasons, justified to their the same time we are unable to understand those reasons and logic. tests....

A heart to heart talk with trusted friend may help...Letting it out, letting the steam off helps...May be the other person whom you talk to about it, can give u the perspective u were ignoring or didn't see...Sharing each others' life experiences helps...It helps to see what people are dealing with, oh yes, they also have weird experiences with people, with friends... certain friend closing down the relation, certain friend having misinterpretation...not one, but, many things about people, about situations....

The pal you open ur heart to, may show u, how confused we are emotionally, at times.The friend may offer you a fruitful solution as well...It's not about " Let me deal with it", but it is " Let me stay with it, though it seems wrong." May be, we require help in building our own patience and remaining calm. Secrecy takes toll emotionally, I agree...but instead of judging a person and reaching any conclusion, it is always better to wait for right time when you two can talk, may be not in present moment, may be in distant future.

Saturday, January 24, 2009

किसी और की उमदा रचनाये...

नमस्कार । आज आप सब के सामने मेरी कॉलेज के ज़माने की एक सहेली की कुछ उर्दू रचनाये रखने जा रही हूँ। मुझे ये कविताये बड़ी प्यारी है । नाम लेकर उसे रुसवा ना करने का वादा कल भी था, आज भी कायम है , इसीलिए नाम नही लिख रही...उसने जमा की हुई खुबसूरत कविताओ में से यह कुछ आप सब के लिए...उम्मीद है आप को भी यह पसंद आएँगी। शीर्षक नही है, क्रमांक दिये है ।
१) ए आंसू,
न आया कर उनकी आँखों में यूँ,
बस, इतनीसी तुझ से गुजारिश है ।
इक नूर ही काफी है उनके चेहरे से झलकने के लिए,
फिर भी झलकने की तेरी क्यों ख्वाहिश है ?
उन खुबसूरत आँखों में रहने की तेरी बेकरारी-
मुझ से बेहतर भला कौन समझ सकता है?
मगर उन आँखों में, बस मैं, और मैं ही रहूँ, ये मेरी बेकरारी,
तुझ से बेहतर भला कौन समझ सकता है ?
चल, करते है इक छोटासा समझोता ,
देता हूँ मैं तुझे अपनी आंखों में आने का न्यौता,
माना उस खूबसूरती का किश्त भी इन आंखों में नही ।
मगर इन में उन्ही का चेहरा बसता है,
क्या ये तेरे लिए काफी नही ...................................................................

२) मेरे हमसफ़र , तुझे क्या ख़बर,
वो जो इक रिश्ता -ऐ-दर्द था-
मेरे नाम का, तेरे नाम से,
तेरी सुबह का, मेरी शाम से,
सरे-रहगुजर है पड़ा हुआ, वही ख्वाब-ऐ-जा ।
मेरे हमसफ़र, तुझे क्या ख़बर,
बस, इक मोड़ के फर्क से -
तेरे हाथ से मेरे हाथ तक-
वो जो हाथ भर का था फासला,
कई मौसमों में बदल गया।
उसे नापते, उसे काटते,
मेरा सारा वक्त गुजर गया..........................................................................

३) जिंदगी की राहों में,
चार सू अँधेरा है ।
मन की सुनी वादी में,
खामोशी का डेरा है ।
जितने ख्वाब रोशन थे,
शर्मगी निगाहों में,
जितने पंछी उड़ते थे- भीगती फिजाओ में,
खो गए हवाओं में ।
आँधियों की राहो में ॥
क्या हूँ का आलम है तो फिजा पे तरी है,
हर किसी के चेहरे पर इक सोगवारी है।
तुम को अपना कहने की ये सजा हमारी है ।
हाँ, मगर ये ख्वाहेश है, फिर से ये जहाँ बदले,
मेरा महेरुबा बदले ।
हाँ, अगर तू चाहे-ले चले उधर मुझे,
दो कदम के रस्ते पर इक नया सवेरा है ।
इक बार फिर से कह दे , तू अभी भी मेरा है ...............................................

शब्दों के अर्थ -
हूँ- सन्नाटा

Friday, May 16, 2008

आयी बहारे झूम के

सर्दियों का बर्फीला मौसम गुजर चुका, सर्द हवाए बीत गयी, ठिठुरती , ठंडी रुत बीत गयी और झूम के बहारे आ गयी \ अब तक वसंत ऋतू के बारे मे बस सुना ही था, कल्पनाए ही की थी पर जब देखा तो बस देखते ही रह गए ....ओहो , क्या खुबसूरती हर जगह छाई है , फूल ही फूल हर जगह खिले है, हरियाली ही हरियाली है \ जिस ओर नज़र दौडाओ मुस्कुराते नजारे है, झूमती बहारे है \ मेरा छोटासा सा शहर खिल गया, रंगो मे नहा लिया \ हर दिल मे नये अरमान जगानेवाला , हर डूबते दिल मे नयी आस बंधानेवाला खुश गवार मौसम आख़िर आ ही गया \ सर्दियों मे ६ महीने बिताकर जैसे पेड़ पौधे भी हमारी ही तरह थक गए थे\ अपने पत्ते खोकर भी सर्दियों मे खूबसूरत लगनेवाले पेड़ भी अब बेसबरी से वसंत की राह देख रहे थे......मेरा यह पहला ही वसंत और उसके आने की हलकी सी आहट ने ही ख़बर दे दी आनेवाले नजारों की \ यहा के हर फूल का नाम तो नही पता मुझे पर खुबसूरती नाम की मोहताज तो नही होती ना !!!! आप सब के साथ बाटना चाहूंगी यहा की खुशिया, चलो आप सब को दिखाती हूँ यहाँ के प्यारे फूल , अनछुई कलियाँ \\ आप जो भी तस्वीरे अभी देखेंगे वो सारी मेरी प्यारी सहेली सरिता के सौजन्य से है\ और ये सारी तस्वीरे मेरी university की है \ हमारा खिलता हुआ गुलशन देखिये और आप भी हमारी तरह ही झूम जाइये \

Friday, May 9, 2008

बस, यूँही !!!!!

आज बहुत महीनों के बाद फुरसत मिली है , कुछ लिखने की \सोचने मे ही अक्सर वक्त बीत जाता था\ रोज मराह की जिंदगी से अब थोडी फुरसत है के कुछ अपनी पसंद का करे , मन चाहा वक्त बिताये \ गर्मियों की छुट्टी तो लगी है, पर सुबह साडेसात की जॉब से छुट्टी नही मिली है\ ओह, घर और घर का आराम !!!!! कल पहली बार जरा सकुन से उठी, आराम से कॉफी बनाई और स्वाद लेकर पी !!!! अपने लिए खाली वक्त मिला तो कुछ करने के लिए पहले से ही colouring books लाकर रखी थी और मेरे पसंदीदा रंग भी !!!!! Laptop पर पुराने , नये खूबसूरत गानों का collection लगा दिया और एक प्यारे से दिन की रंगीन शुरुवात की !!!!! बहोत दिनों बाद सकुन की साँस ली !!!!!
फुलों मे रंग भर रही थी मैं, उनकी पंकुडिया, पराग , उनके पन्ने सब मे रंग भरते भरते दिल दिमाग मे शान्ति छा रही थी !!!!! बहोत मजा आया , बहोत दिनों बाद !!!!! न जाने कितनी बार ये सोचा की एक कागज पर print किए हुए बेजान फुलों मे रंग भरते हुए मुझे इतनी खुशी होती है, इतना मजा आता है, तो भगवान जिन्हों ने ये दुनिया इतनी रंगीन बनाई है, इतनी खूबसूरती हर जगह बिखेरी है, उन्हें कितना आनंद आया होगा !!!! उनकी कारागरी के क्या कहने !!! गुजरे कई दिनों की थकान मिट रही है अपने नये अनुभवो को जोड़ रही हूँ अच्छे से सान्धकर लिखूंगी यहाँ !!! अब लिखने का, बाटने का वक्त आ गया है !!!!! Lexington की खूबसूरत दुनिया, यहा के वसंत की प्यारी सी झल्किया आप सब के लिए लाऊँगी ..जल्द ही !!!!!

Thursday, November 1, 2007


As we grow, we become harsh with people b'coz of prejudices or b'coz of their past mistake.For single mistake/misbehaviour committed in past,we hold them guilty & treat them badly,lifelong. we never give them a chance to correct themselves & even don't give chance to ourselves to forget and forgive. Many people even do not remember the mistake for which they treat others harshly!!!!! so,when we meet,even professionally, the conversation turns into an altercation, unnecessarily. Why can't we give people a chance, one fair chance, atleast to correct & prove themselves? rather why can't we give ourselves a fair chance toforgive & accept people as they are?
Our minds/perspectives are never pure or without prejudices,though we presume ourselves to be just.How can people change for us when we are not ready to change for anyone? sometimes when you want to avoid/stop a bitter talk but you can't & to add to that , you have to act as acatalyst so that situation doesn't get worse & you can't take any one's side as you are well conversant with both,what would you do? I suggest --not to comment on anyone ,but say to yourself--be true & say,atleast for myself i'll not try holding people guilty for things done in past. Let me give someone a fair chance so that someone else can give me one, if needed & i'm sure that many people are there who hold us guilty of past. Everyone of us has people with prejudices abt him/ her. It depends on us how we deal with them so that the future is not bitter....let's give a chance to ourselves' if not to others & try to the best of our ability to bring harmony to ourselves.........Let's give ourselves a fair chance to have a fair vision.............................

Sunday, August 26, 2007

सपनो की उड़ान -भारत से अमेरिका तक !!!!!

सपने इन्सान से ना जाने क्या क्या करवाते है, मुझे ही देख लीजिये - एक सपने के पीछे अपने वतन से हजारो मिल दूर परदेस मे हूँ , अपने ख्वाबों को साकार करने के लिए
\ मेरी नयी दुनिया मे आप सब का स्वागत है
आज इस नयी दुनिया मे कदम रखे मुझे २१ दिन बीत गए है, फिर भी हर रोज वही नयी चेतना, नयी संवेदना महसूस करती हूँ सुबह यहा भी अनागीनत ख्वाबों के साथ आती है
७ अगस्त को भारत और अपने दिल के करीब रहनेवाले कई अपनों को, दोस्तो को अलविदा कहा है मैंने- वतन छोड़ते वक़्त क्या महसूस हुआ था ये तो शब्दो मे बयाँ करना नामुमकिन है हाथो से हाथ छूटे थे, आंसू से आंखें भर भर आती थी पर अपने सपनो को जीने कि ख्वाहिश हौसला और उम्मीद और बढाती एअरपोर्ट कि धान्द्ली, हसते , हसाते चहरे, छुपाये हुए आँसू, छूटे हुए हाथ और अपने आप से कीये हुए कितने ही वादे, इन्ही के साथ चल रही हूँ उन सब कि याद होंठों पर मुस्कराहट ले आती है
यहाँ भी- अजनबियों को देस मे- अपने मिल गए है, जिंदगी आसान है, खुश है Independence and interdependence -is the virtue of life !!!!! हर पहलू से जिंदगी बदल रही है, जिंदगी को समझने का सब से बेहतरीन मौका मिला है यहाँ अपनी जिम्मेदारियों को खुद उठाना ये अपने आप मे ही स्वयम पूर्ण अनुभव है ऐसे कई व्यक्तित्व यहाँ मिले जिन्हे देख कर लगा शायद ये ना मिलते तो जीवन कही अधूरा रह जाता -क्यो के उनके अनुभव , उन्हों ने झेली हुयी कठिनाईया और उनकी जीत बहोत प्रेरक है नये रिश्ते बनाना , नए दोस्त, नयी दुनिया बनाना और उसे सींचना -खुबसुरत है पराये चेहरों मे भी अपने मिलने लगे है, मेरे सपनो के गुलिस्ता खिलने लगे है मेरी ही तरह और भी कई दुसरे मुल्कों से आये हुए लोगो से पहचान हुई है, उनको जान ना भी बेहतरीन है
अपनी नयी पहचान, अपने आप कि तरफ देखने का नया नया नजरिया मिल है कामयाब तो होना ही है- हौसले बुलंद है और हिम्मत भी है ये रास्ते मेरी मंजिलों का पता बताते है, और हम अकेले भी नही- कारवा हमारे साथ है I feel as if I am given the best opportunity to grow as a person-moment by moment. I am blessed as I have the opporunity to enrich my world with myriad experiences-twists and turns, I am happy that I will be able to see and face the world as it comes to me- without any prejudices , I am glad that I have found my people in an unknown country and I am sure that my dreams will come true for My Very Own Country !!!!

Thursday, June 14, 2007

सलोना सावन //

एक गर्म सी दोपहर थी आज -पसीने से हालत खराब हो रही थी -हवा भी गर्म ही थी और अचानक ........जोर कि हवाये बहने लगी - रस्तो पर जमी धुल झट से हटाने लगी, फूल पत्तो के साथ साथ प्लास्टिक कि थैलियों को भी पर लग गए और आस्मान मे धुल, कपडे ,फूल, पत्ते, प्लास्टिक कि थैलिया सब का जमघट लग गया -गर्म सी हवाओ ने अपना अंदाज़ बदला , और ठंडे झोको मे तफदिल हो गयी , अभी तक रूक रूक के चलने वाली ट्राफिक भी जोर से भागने लगी, बारिश कि पहली झलक पाने को जिन्दगी तरसने लगी //
वाह, क्या नजारा था, नीले आसमा मे सावरे बादल छा गए और हर एक दिल मुस्कुरा उठा // बादलो के साथ साथ आसमा मे पंछी भी तैरने लगे, तितली से लेकर चिडिया तक झूम कर ऊंची उड़ाने भरने लगे// गुल मोहर कि खुबसुरत लाल पंकुडिया गोल गोल घूमती हुई जमीन को चूमने लगी ,और लाल रंग कि मखमली बिछायत जमीन पर सजने लगी // कोयल ने भी तान सुनाई और बारिश कि पहली बूँद धरती पर आयी//
वो बूँद तन को छूकर मन मे जा बसी// हर उदासी मिट गयी , बहारो के साथ साथ ख़ुशी आ गयी// बिजली ने भी खूब शोर मचाया , कारे बादलो के हर सू अंधेरो मे, गहरा उजाला छाया// क्या बताऊ ,कितना खुश गवार मौसम था, बूंदो के साथ उठती हर सरसराहट के साथ ख़ुशी के नयी लहेर दौड़ती थी, मानो बारिश न्योता देकर बस मुझे पुकारती थी// रस्तो के आईने बन गए, नन्ही नन्ही कलियों से फूल खिल गए//
देखते ही देखते सारा समां बदल गया, तन और मन कि तपन बुझाने सलोना सावन आ गया // सलोना सावन आ गया///

Sunday, May 27, 2007

कोई ऐसा तो हो \\

कोई एक इन्सान तो ऐसा हो हमारे रिश्तों मे - जो बिना कोई इल्जाम दिए, बिना कोई सवाल पूछे हमेशा हमारे साथ चलता रहे ,इतना विश्वास करे हम पर-- के उसका विश्वास हमारे अन्दर कि अच्छायी को बरकरार रख सके\
कोई एक इन्सान तो हो जो हमारे वजूद पर सवाल ना उठाये\ कोई एक इन्सान तो हो जो हमे हमारी हर बुरायी ,हर गलती के साथ स्वीकार कर सके\ कोई ऐसा तो हो, जो हमारे लिए दुनिया के विरूद्ध खड़ा हो सके, कोई ऐसा तो हो\
कोई ऐसा इन्सान तो हो जिसके गोद मे सर रख कर हम हर दुःख भुलाये चैन कि नींद सो सके\ कोई ऐसा हाथ तो हो जो हमे हलके से सहला दे और हमारा हर दुःख बिसरा दे\ कोई ऐसा तो हो जो बेगरज भरपूर प्यार दे, सहारा दे \ जिसे देख कर घनी छाव का एहसास हो \ जिसे देख कर अपनी जिंदगी से प्यार हो \ कोई ऐसा तो हो\
कोई ऐसा तो हो , जिसमे हमारी गलतियों को माफ करने कि ताकत हो \ ऐसा कोई जो उन गलतियों को बार बार याद दिलाकर हमे दुखाता ना हो \
कोई ऐसा जो हमे कभी अपने से दूर ना करे या हम दूर चले गए तो वापस बुलाने मे देर ना करे \\ जिसकी एक मुस्कराहट हमे जितने का हौसला दे सके\और उसका सहारा हमे हार स्वीकार करने कि और फिर लढने कि हिम्मत दे सके \ कोई ऐसा तो हो जो " वो हमारे विश्वास को नही तोडेगा ", इस विश्वास पे कायम रह सके\\ काश कोई ऐसा तो हो, काश कोई ऐसा तो हो \काश किसी के लिए हम ऐसे हो, हम ऐसे ही हो \\\\

Sunday, May 6, 2007

चुनाव हमे करना है\\

मेरे दोस्त-पुष्कर के हर मेल के अंत मे एक पंक्ति होती है ,जो Harry Potter किताब से है - Albus Dumbledore -Harry से कहते है- "It is our choices Harry that show what we truly are, far more than our abilities।"

कितना बड़ा सच या कहिये शक्ति ,कितने सीधे शब्दों मे बतायी है, ना? जिंदगी मे हम जो चुनाव करते है ,जो फैसला लेते है, वो ही हमारी शक्सियत को सही /यथार्थ तरीके से बताता है\\ कितनी ही बार हम अपने आप को जिंदगी के दो राहे पर पाते है और हमे चुन ना होता है किसी एक को और मन मे होता है "राह कौन सी जाऊ मैं ?"
जिंदगी का यही दो राहा हम को बनाता है या बिगाड़ता है\\

सही और गलत के बीच चुनाव करने कि काबिलियत हम सब मे है पर हर बार यह बात इतनी सीधी नही होती ,कई बार ऐसी हजारो उलझने ,मुसीबतें होती है जिन मे सही क्या और गलत क्या ये मालूम होते हुवे भी सच और सही का चुनाव करना आसान नही रहता\\ ऐसे वक़्त मे जो सही का साथ दे और मुश्किलों से ना डरे ,वह अपनी शक्सियत कि मर्यादा को लांघता है --और नयी उचाईयों को छूता है\\ Transcending our own limits to acquire new abilities ,to attain new heights created by our own virtuosity......

साथ कोई साधन नही ,नही कोई अपना ,सिर्फ अपना होसला और हिम्मत -एक नया आसमान बनाने कि -और इसी लगन मे जो निकल पड़ते है और अपने सपनो मे,फैस्लो मे विश्वास करते है ,उन्ही मे से असामान्य जन्म लेते है, जो आनेवाली हर सदी को प्रेरणा देते है - शायद उन्ही मे से एक का नाम " stephen Hawking" होता है जो अपनी शरीर कि / विकलांगता कि हर मर्यादा लांघता है \\ शायद उन्ही मे से एक -A.P.J.Abdul kalam नाम का रामेश्वर मे रहने वाला एक साधारण परिवार का बेटा होता है जिन पे आज भारत वर्ष कि जनता को नाज़ है\\
शायद उन्ही मे से कोई एक गरीब इन्सान अपनी लगन और मेहनत से "धीरूभाई अम्बानी" नाम को एक ऐसा रुतबा देता है जिस से "रिलायंस" नाम का अरबो का व्यवहार जन्म लेता है\\ डाक्टर अभय और रानी बंग जैसे इन्सान जन्म लेते है जो सिर्फ और सिर्फ दूसरो के लिए जीते है\\\

हाँ,ये सारे असामान्य है --सिर्फ उनके फैसलो और चुनावो कि बदौलत ...........हाँ, ये सारे कुछ और होते अगर ये कुछ और चुनते या परिस्थिति से संघर्ष ना करते\\\ इसीलिये मुझे वह पंक्ति बहोत भाती है क्यो के वह वो सच्चाई बताती है जिसमे सामान्य को असामान्य बनने कि शक्ति है,उर्जा है,प्रेरणा है \\

हम मे से हर एक मे अपनी मर्यादा लांघने कि ,उचाईयों को छूने कि ताकत है -बस फैसले कि देर है\\\
" धरती को बौनों कि नही,
ऊंचे क़द के इंसानों कि जरूरत है -
इतने उंचे कि आसमान छुले,
नए नक्षत्रों मे
प्रतिभा के नए बीज बो ले
----(आखरी पंक्तियाँ श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी कि" उंचाई" कविता से )\\

We do fail ......

We do fail... yes ,we do .... we do fail when we never want an incident to happen and it happens making us helpless...... we do fail when we realise a relation is lost-we wanted it to work but it never worked....we wanted that dear one to stay but let it go and we and that one just moved on.....sometime... someone other wanted to hold us dear and we failed to realise that......

We fail when someone we never want to depart.... leaves us and never returns....I never wanted my grandmother to leave me so early but she deserted me and i fail when i try to stop her memories fill my eyes.......tears just roll down everytime.....

We fail in taking those memories out of our mind and heart......memories of loved ones we never wanted to lose but lost them anyways...... either they moned on or we didn't care moving one bothered to stop......

We fail to apologise when we understand how badly we hurt someone......we go upto them to say sorry but wall of glass stands between our words and lips and we...... we fail to understand that some one may go miles away if we don't speak up our mind,don't express how we care.....

And it's other way round also........ we consider ourselves to be an integral part of someone's life and never see that whatever we are putting on ,never existed !!!!! We fail to understand that we are non- entity in someone's life- we were ready to sacrifice our life,pleasure,position for........ We fail to see the reality !!!!!

Still,it's beautiful to be here...... know why,atleast we do not fail in moving on and letting that pain to abate....we don't fail in making new relations and make them work ...... atleast we do not fail in gathering that courage to live....though empty at heart and still with a beautiful smile on face to let others laugh with us..................and with a hope that we will not fail again !!!!!!!!!!!!!!!

Wednesday, April 25, 2007

What does it take to enjoy and be happy ???

It was just another hot afternoon in summer,temperature above 40 degree celcius each day !!! so,naturally,to cool down and to make everyone chill at home,i went to buy icecream today and what i saw there was just fun !!!! A group of ladies,around 15-20 in number, most of them in their mid 40's, were there to have ice-cream and to my surprise, these ladies were freaking out,literally !!! In the middle of ice-cream shop,these ladies were laughing full voice,shouting,playing pranks on each other,were commenting and even a bit of ridicule to add to their enjoyment !!!! Utter chaos !!!! Even the shopkeeper and owner were stunned to see those ladies !!!! They were enjoying just like any one in his/her late teens would do,really, doing all the things as we all do when we are with our friends !!! Everyone seemed very very happy and though i was not the part of the group,i enjoyed just being there !!!! For those moments, the bearing of "age" and "social behaviour" ,was not there,what was there -was sheer and boundless enjoyment !!!!
That time,i thought ,it's upto our will -how much we enjoy ,how much we embrace a moment and make the fullest of it to be happy.We regret we lost our childhood,our teens and all fun ,all leisure,all laughter and yes,the long happy hours spent with friends too... But these women at their fourtees,each with woes and worries at home ,may be at heart,still enjoying those small,little cheers of life reminded me-age,work ,worries cast no obstacles if we really wish to enjoy......Many a times ,it does not require anyone else when we start enjoying ourselves and the circumstances....It's really us- the creator of happy times and memories as well.... It does not take anything more than our wish to create cheerful moments for ourselves and may we involve others in being happy too !!!!! We must not wait for someone else or a particular situation to make us happy or to enjoy but must give ourselves that freedom to create such smiling moments out of any situation that comes across us!!!! Bestow laughters on ourselves,we deserve them !!!!!!!

Tuesday, April 24, 2007

अपने से अलग एक दुनिया !!!

अपने आप में ही जीनेवाले हम लोग है,हम हर बार अपने आप को और शायद सभी को ये ही जताते है कि हम कितने अच्छे है ,सब का ख़्याल रखते है, सब के बारे में सोचते है ,खुद कि उलझनों के बावजूद भी ,देखो, हम कितना दूसरो के लिए जीते है !!!! क्या सच मुच हम ऐसा करते है कभी ?पूछकर देखिए अपने आप से ,आप का जवाब क्या है !!! सच कहे तो रोज मर्राह कि जिंदगी और भागदौड़ में हम अपने आप को याद नही रख पाते है तो दूसरो को क्या याद रखेंगें?? हम भूल जाते है कि हम से अलग ,हम से परे एक बेहद खुबसुरत दुनिया पलती है ,एक और दुनिया बसती है , जीती है \ हमारी ही तरह किसी और कि साँसे चलती है,धड़कने गूंजती है \
इस दुनिया मे बसने वाले हम सब कही ना कही अपने से लोगो कि तलाश मे होते है , प्यार कि ,ख़ुशी कि तलाश में होते है और इस तलाश में ये ही भूल जाते है कि जिस चीज कि खोज में,उसके इंतज़ार में हम आंखें बिछाए बैठे है वो हमारे ही पास है ,शायद दूसरो मे बाटों तो हमे भी मिल जाये \ हाँ, ख़ुशी और प्यार बाट ने कि चीज़ है ,अगर आप अपने लिए चाहते हो तो बाटों इन्हें ,या कहे लुटाओ इन्हें \\ इस जहा मे माँग ने वाले बहोत है, देनेवाला कोई नही \ दर्द देनेवाले बहोत है, दर्द बाटने वाला कोई नही \ तो क्यो ना हम अपने आप के लिए कोई मुकम्मिल जगह बनाए-क्यो ना दूसरो के दुःख दर्द बाटे , क्यो ना आस बंधाये \\ क्यो ना हम अपने से अलग पलने वाली दुनिया को अपना बनाए,क्यो ना हम उस कि साँसों में अपने गीत सजाये\\ क्यो अलग रहे हम, क्यो ना सब को अपना बनाए\\ इस दुनिया जहा मीत ना मिलते वह हम अपनी प्रीत लुटाये \\ चलो, इस दुनिया को अपना बनाए \\

Saturday, April 21, 2007

कुछ भूली बिसरी बातें |

कितनी ही बार ऐसा होता है के हम अपने काम मे उलझे होते है और अचानक कोई भुलीसी प्यारी धुन सुनायी पड़ती है, घर साफ करते हुए पुराने सामान मे कही पुराने ख़त मिल जाते है, कोई भुलासा गाना कभी राह चलते सुनाई पड़ता है ,कभी खुद कि ही लिखी कविता कही मिल जाती है और भूली यादो का सिलसिला सा जागता है ,कई अनकहे से ख़्वाब लौटते है, कई अश्क जो सुख गए थे फिर पलकें भिगोते है, कई जख्म जो वक़्त के साथ भर गए थे अचानक जागते है \ ये भूली धुन ,भुलासा गाना ,ये पुराने ख़त , ये मासूम अश्क याद दिलाते है एक खुबसुरत अतीत कि ,और होठो पर एक हलकी सी मुसकुराहट खिल जाती है \ कई बंद दरवाजे खुल जाते है, और हम अपनी ही तरफ फिर वापस लौटते है \ कितने ही सालो का फासला पल मे तय हो जाता है और कई लम्हों को फिर से जिंदगी मिल जाती है या शायद उन यादो के साथ हमारी जिंदगी लौटती है \ कितनी ही बाते जो हम ने कहने कि सोची थी ,कई ऐसे पल जिन्हे अपनी जिंदगी मे लाना चाहा था पर हक़ीकत मे ला ना सके ,वो फिर से याद आते है
और हम फिर उन्हें दोहोराते है,बस अपने आप के लिए \ ये यादे शायद हमारी ताकत बनके लौटती है ,चाहे वो हक़ीकत ना बन सकी हो \

ऐसे ही कुछ हालात बन जाते है और मन कह उठता है ----------

आवाजे लौटती है,मुसकुराहटे लौटती है,
अतीत और हमारे बीच कि जंजीरे टूटती है \
गुजरे कई साल ,कुछ पल बन जाते है,
अधूरे से कई ख्वाब फिर नजर आते है\
अनकही कई बातें खामोशी में गूंजती है,
मनचाहे कुछ अपनों को फिर नजरे धुन्धती है \\
कई गुजरे मंज़र फिर से खुद को दोहोराते है,
आज कि तनहाई में हम कल को भी तनहा पाते है \\

......................... शायद हुआ हो कभी ये आप के साथ,कुछ याद है ???

गौरी कमलाकर शेवतेकर

Friday, April 20, 2007

जिंदगी |

परवाना , परवाना नही कहलाता ,
जब तक शमा उसे जलाती नही \
जब तक दर्द का एहसास नही होता,
जिंदगी,जिंदगी कहलाती नही \\

---गौरी कमलाकर शेवतेकर.

Thursday, April 19, 2007

मेरी कविता

जीवन कि परिभाषा क्या है,
है जीने कि अभिलाषा क्या,
कभी ना रुकने वाले समय का,
हर पल है समझाता क्या? १

कौन से सुन रही मैं स्पंदन,
क्या जाग रहा अंतर्मन,
कौन से उत्तर धुंध रही मैं,
कीन प्रश्नों में घिरा है जीवन? २

आज अचानक,
महसूस हुआ जो,
क्या है ये अधूरापन? ३

वक़्त ने भी बदली है करवट,
विचारों कि बदली है गति,
अपने आप कि खोज कर रही,
भीड़ में मैं अकेलीसी ४

कोई ना जानता,कोई ना सुनता,
मेरे मन के स्पंदन को,
मैं ही अकेली देख रही हूँ,
मेरे जग-नवचेतन को !!!! ५

-----गौरी कमलाकर शेवतेकर.

कुछ रिश्ते |

जो रिश्तें दिलों को छू जाते है, उन रिश्तों को हाथों से छूने कि जरूरत नही \ होती बहुत खुबसुरती भर देते है कुछ लोग हमारी जिंदगी में-इतनी कि नजरे भी दुनिया को खुबसुरत महसूस करती है \इतनी कि पहले बदसूरत लगनेवाली दुनिया में हर तरफ खुबसुरती ,अच्छाई और रौशनी नजर आती है \ दिल को सुकून सा महसूस होता है \ क्या नाम होता है इन रिश्तों का,क्या नाम होता है उन लोगो का? होता भी है हर बार ? उनका नाम,वजूद या उस रिश्ते का नाम, ये जान ना जरूरी नही होता \उन रिश्तों को,उन लोगों को महसूस करना जरूरी है \ हर जिंदगी के लिए ऐसा एक रिश्ता,या कहिये ,रिश्ते जरूरी है \
----गौरी कमलाकर शेवतेकर.

Monday, April 2, 2007


Dream,Dream,Dream.Dreams transform into thoughts and thoughts into action.Real words,as we all know.
Our deeds are certainly the manifestation of our thoughts,our dreams.Many a times what we dream ,what we think and what we do to achieve what we believe in,is just the opposite of the norms,the popular beliefs and this is the time we invite a storm...storm of life,that tests our values,our beliefs, our determination.This is the time when we test ourselves,meet the reality and test our courage, our strength.
A time comes when it seems that a war is going and there is no way out.This is the time that determines our destiny.If we surrender against the harsh and the worst of life,we never get to reach the excellence,personal excellence and to accomplish what we believe in.To rise requires courage,not in thoughts but in deeds.Standing alone to become Outstanding requires strength.
We need to meet the storm face to face to stand firmly and live worthy,worthy of accomplishing our dreams because the roots of true achievement lie in the will to become the best you can become.Ceratainly,holds true for every one who dreams and thinks to convert them into reality.

Thursday, March 29, 2007


Identity.... Finding my identity. Many experiences that enriched life, many people to treasure, many from whom i learned how i must not be and many like whom i want to be. Life is a constant process of defining and redefining ourselves through relations,education and spirituality.Courage to stand our conviction,dare to go against the flow, inner conflicts and outer wars, taught me much more abt life.Life taught me how strangers become friends and help out of the way,without any expectations and how dear ones turn away. It taught me to stand my grounds and still embrace the sky,that's what i want to do.Life is about to take a new turn and i await a new beginning,that is not too far.
Much more to write,much more to share.Every moment lived honestly ,a few filled with triumph, many with blues,still more with joy and laughter.Many people who hold us dear without any reason,be kind to us for no reason and people who deserted us though we loved them and few who deceived us. Yes,will be writing all about it.
Here,I find a space to speak of my mind about people,abt experiences -good and bad , abt my world that i am trying to corelate with people around's their world different than mine,how there are several versions of truth at a time??? I really find it interesting how every one perceives same thing differently!!! Understanding life as it comes to me and sharing it with you.Hope you will be a part of my journey too.